MANTOIYAT Lyrics – Raftaar and Nawazuddin Siddiqui

MANTOIYAT Lyrics/Raftaar and Nawazuddin Siddiqui

Song Details:-
Song Title:- MANTOIYAT
Vocals:- Raftaar and Nawazuddin Siddiqui
Lyrics:- Raftaar and Saadat Hasan Manto
Music Composed By:- Raftaar
Recorded At:- Raftaar’s Home Studio (Delhi)
Mixed and Mastered By:- Abhishek Ghatak
Produced B:- Vaibhav Modi
Directed By:- Nandita Das
Writer By:- Nandita Das
Editor By:- Hitesh Kumar
Artist – Adolf D’Souza
Music On:- Zee Music Company
Post By:- Zee Music Company
Released Date:- 12 Sept 2012


“MANTOIYAT Lyrics”

Raftaar and Nawazuddin Siddiqui

…Music…

(Manto) Sawal Yeh Hai Ki Jo Chiz Jaisi Hai Usse Waisi Hi Pesh Kyu Na Kiya Jaaye
(Manto) Main Toh Bus Aapni Kahaaniyon Ko Ek Aaina Samjata Hoon Jisme Samaaj Aapne Aapko Dekh Sake

Aaina Na Dekhna Chahe Samaaj Mera
Puche Mera Kal Na Dekhte Yeh Aaj Mera
Khodate Kharodate Yeh Meri Galatiyan
Main Bhi Chal Diya
Meri Soch Pe Hai Raj Mera

Kaan Band Aankhe Band Inke Muh Pe Taale
Inpe Jor Na Ki Satya Pe Prakash Daale
Bole Sach Jo Uske Cheere Pe Tezaab Daale
Ghume Fir Khule Me, Aur Jaale Jo Wo Nakaab Daale

Off Off Off Hai. Dimag Sabka Off Hai
Zamaana Kya Kahega Iska Hi Toh Sabko Khauff Hai

Daabke Jeete Hai. Daabane Ke Yeh Aadhi Hai
S**.. Nishedh Hai Toh Itni Kyu Aabaadi Hai
Log Yeh Hai Aatma Se Khokale
Khud Kare Toh Thik Baaki Kare… Doogale

Gaali De Doon Hindi Me Toh Bole Aisa Kyu Kiya
F*** Kyu Hai Cool Jaane Galat Kyu Hai C******

(Manto) Kya Iss Tarah Ke Alfaz Hame Sadako Pe Sunayi Nahi Padte
(Manto) Manto Ek Insaan Hai X4
(Manto) Mujh Par Ilzam Hai X3
(Manto) Manto Ek Insaan Hai

Jaat Mein Yeh Baatate Hai
Baat Ke Yeh Kaatate Hai
Kaatne Waale Khat Pe Hai
Inki Mauj Raat Me Hai
Laal Batti Wali Gaddi
Glass Inke Hath Me Hai
Rajneeti Me Hai Chor
Police Inke Sath Me Hai

Meri Baate Tumhe Sach Nahi Lagti
Sachi Baate Tumko Yaara Pacch Nahi Sakti
Mujhse Naa Samaj Hai Dugane Meri Age Ke
Ek Pair Kabar Me Yeh Bhuke Hai Dahej Ke

Betiyon Ko Maarte. Betiya Na Paalte
Betiyon Pe Dusro Ki Yeh Nazare Gaandi Daalte
Ladkiya Patake Unko Bandi Bolte Hai
Aur Jo Raazi Na Hoon Unko S**** R***** Bolte Hai

Baa Par Roz Maa Pe Tos
Hath Jo Uthayega
Bezuban Bolne Se Phele Shikh Jaayega
Ki Mard Tab Banega Jab Tu Aurate Daabayega
Soch Yeh Rahi Toh Jaldi Desh Doob Jaayega

(Manto) Main Society Ki Choli Kya Utaarunga
Joh Phele Se Hi Nangi Hai
Usse Kapde Pehnana Mera Kaam Nahi Hai

(Manto) Main Kaali Takti Par Safed Chalk Istamaal Karta Hoon
Taaki Kaali Takti Aur Nimaya Hojaaye
(Manto) Manto Ek Insaan Hai

Mene Ghanto Padha Hai Tumko Manto
Tumhare Jaisa Baanu Kare Mera Maan Toh
Inn Panto Ko Sach Nahi Dikhta
Saatar Saal Aazaadi Ke Aisa Charge Bhi Nahi Bikta

(Manto) Agar Aap Meri Kahaaniyon Ko Bardasht Nahi Kar Sakti
(Manto) Toh Iska Matlab Yeh Hai Ki Zamaana Hi Naqabil E Bardasht Hai

THE END


(हिंदी में)

…संगीत…

(मंटो) सावल ये है की जो चिज जैसी है उसी वैसी ही पेश क्यू ना किया जाए
(मंटो) मैं तो बस अपनी कहानियां को एक आईना समझौता हूं जिसमे समाज अपने आपको देख सके

आईना ना देखना चाहे समाज मेरा
पुचे मेरा कल ना देखते ये आज मेरा
खोदते खरोदते ये मेरी गलतियां
मैं भी चल दिया
मेरी सोच पे है राज मेरा

कान बैंड आंखे बैंड इनके मुह पे ताले
इंपे जोर ना की सत्य पे प्रकाश डाले
बोले सच जो उसके चीरे पे तेजाब डाले Da
घूमे फिर खुले में, और जाले जो वो नाकाम डाले

ऑफ ऑफ हाई। दिमाग सबका ऑफ है
जमाना क्या कहेगा इस्का ही तो सबको खौफ है

दाबके जीते हैं। दाबने के ये आधी है
स**.. निषाद है तो इतनी इतनी आबादी है
लोग ये है आत्मा से खोकले
खुद करे तो ठीक बाकी करे… दोगले

गली दे दून हिंदी में तो बोले ऐसा क्यू किया
एफ **** क्यू है कूल जाने गलत क्यों है सी ******

(मंटो) क्या इस तरह के अल्फाज़ हम सदाको पे सुनायी नहीं पाते
(मंटो) मंटो एक इंसान है X4
(मंटो) मुझसे पर इल्ज़म है X3
(मंटो) मंटो एक इंसान है

जाट में ये बताते हैं
बात के ये कहते हैं
काटने वाले खट पे है
इनकी मौज रात में है
लाल बत्ती वाली गद्दी
ग्लास इनके हाथ में है
राजनीति में है चोर
पुलिस इनके साथ में है

मेरी बात तुम्हें सच नहीं लगती
सच्ची बात तुमको यारा पच्ची नहीं शक्ति
मुझसे ना समाज है दुगने मेरी उम्र के
एक जोड़ी कबर में ये भुके है दहेज के

बेटीयों को मारते। बेतिया ना पलते
बेटीयों पे दसरो की ये नज़र गंदी डाल्ते
लड़की पटाके उन्को बंदी बोलते हैं
और जो राज़ी ना हूं उनको स **** आर ***** बोलते हैं

बा पर रोज़ माँ पे तो
हाथ जो उठायेगा
बेजुबान बोले से पहले शिख जाएगा
की मर्द तब बनेगा जब तू औरते दाबायेगा
सोच ये रही तो जल्दी देश डूब जाएगा

(मंटो) मैं समाज की चोली क्या उतरूंगा
जो फले से ही नंगी है
उससे कपड़े पहनना मेरा काम नहीं है

(मंटो) मैं काली ताकत पर सफेद चाक इस्तामाल करता हूं Ho
ताकी काली ताकत और निमाया होजाये
(मंटो) मंटो एक इंसान है

मेने घंटो पढ़ा है तुमको मंटो
तुम्हारे जैसा बानो करे मेरा मान तोह
सराय पंतो को सच नहीं दिख रहा
सातर साल आजादी के ऐसा चार्ज भी नहीं बिकता

(मंटो) आगर आप मेरी कहानियां को बरदाश्त नहीं कर सकती
(मंटो) तो इस्का मतलब ये है की जमाना ही नक़बिल ए बरदाश्त है

समाप्त

Raftaar x Nawazuddin Siddiqui – MANTOIYAT | Manto

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *