Itrati Lyrics – Pallavi Ishpuniyani

Itrati Lyrics from Itrati Song is latest Hindi song sung by Pallavi Ishpuniyani with music also given by Yug Bhusal. Itrati song lyrics are written by Himanshu Kohli

Itrati Lyrics - Pallavi Ishpuniyani

Song Details:-
Song Title:- Itrati
Singer:- Pallavi Ishpuniyani
Lyrics:- Himanshu Kohli
Music:- Yug Bhusal
Music Production By:- Roop Mahanta
Mixed & Mastered By:- Roop Mahanta
Post By:- Zee Music Company
Released Date:- 9 Nov 2022

“Itrati Lyrics”

Pallavi Ishpuniyani

Rangon Bhari Main Titli Si
Balkhati Hawaon Mein
Udti Patang Main Doriyon Sang
Ghumu Adaon Mein

Khoyi Khoyi Si Apni Dhun Mein
Rehne Lagi Hoon Main
Pyar Hai Khud Se Yaa Tere Se
Samajh Na Paun Main

Taare Liye Main Bhaagti
Peeche Mere Aasman

Balkhati Lehrati Itrati Main Chalu
Balkhati Lehrati Itrati Main Chalu
Balkhati Lehrati Itrati Main Chalu
Balkhati Lehrati Itrati Main Chalu

Behti Hui Nadiyon Ke Main Kinaron Se Milne Chali
Hone Laga Mujh Pe Asar In Behki Hawaon Ka Bhi
Kadmon Se Main Is Ret Pe Apne Nishaan Chhodti
In Lehron Pe Main Kagazon Ki Kashtiyon Me Chali

Khushiyan Jo Hai Unko Nikal Ke Jebon Se
Zindagi Ko Bhi Thodi Si Kyun Na Baat Doon
Chutki Bhar Sapne Haan Raaton Se Cheenu Main
Main Chulbuli Natkhat Hoon Haan Itni Si Toh Baat Hai

Chamku Main Jaise Jugnu Si
In Kaali Raaton Mein
Letu Main Toh Bhavre Si
Phoolon Ki Baahon Mein

Khoyi Khoyi Si Apni Dhun Mein
Rahne Lagi Hoon Main
Pyar Hai Khud Se Yaa Tere Se
Samajh Na Paun Main

Taare Liye Main Bhaagti
Peeche Mere Aasman

Balkhati Lehrati Itrati Main Chalu
Balkhati Lehrati Itrati Main Chalu
Balkhati Lehrati Itrati Main Chalu
Balkhati Lehrati Itrati Main Chalu

“THE END”


(हिंदी में)

रंगों भरी मैं तितली सी
बलखाती हवाओं में
उड़ती पतंग मैं डोरियों संग
घुमू अदाओं में

खोई खोई सी अपनी धुन में
रहने लगी हूं मैं
प्यार है खुद से या तेरे से
समझ न पौन मैं

तारे लिए मैं भागती
पीछे मेरे आसमान

बलखती लहरती इतरती मैं चालू
बलखती लहरती इतरती मैं चालू
बलखती लहरती इतरती मैं चालू
बलखती लहरती इतरती मैं चालू

बहती हुई नदियों के मैं किनारों से मिलने चली
बेहद हवाओं का भी में होने लगा मुझ पे असर
कदमों से मैं इस रेत पे अपना निशान छोड़ती हूं
लहरों पे मैं कागजों की कश्तियों में चली

खुशियां जो है उनको निकल के जेबों से
जिंदगी को भी थोड़ी सी क्यों ना बात दूं
छुटकी भर सपने हैं रातों से चीनू मैं
मैं चुलबुली नटखट हूं हां इतनी सी तो बात है

चमकु मैं जैसे जुगनू सी
काली रातों में
लेतु में तो भावरे सी
फूलों की बाहों में

खोई खोई सी अपनी धुन में
रहने लगी हूं मैं
प्यार है खुद से या तेरे से
समझ न पौन मैं

तारे लिए मैं भागती
पीछे मेरे आसमान

बलखती लहरती इतरती मैं चालू
बलखती लहरती इतरती मैं चालू
बलखती लहरती इतरती मैं चालू
बलखती लहरती इतरती मैं चालू

“समाप्त”

Itrati – Official Video | Pallavi Ishpuniyani | Yug Bhusal | Himanshu Kohli

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

5 × 3 =