Shikayat Lyrics – Tony Kakkar & Fukra Insaan

Shikayat Lyrics from Shikayat Song is New Hindi song sung by Tony Kakkar & Fukra Insaan with music also given by Tony Kakkar. Shikayat song lyrics are written by Tony Kakkar

Shikayat Lyrics - Tony Kakkar & Fukra Insaan

Song Details:-
Song Title:- Shikayat
Singer:- Tony Kakkar & Fukra Insaan
Music:- Tony Kakkar
Lyrics:- Tony Kakkar

“Shikayat Lyrics”

Tony Kakkar & Fukra Insaan

Zindagi Tu Aana Ik Shaam Milenge
Baithenge Teri Shikayat Karenge

Ye Mujhe Girate Hain Kyon Aksar
Jo Khudko Utha Bhi Nahi Sakte
Ye Rishta Banate Hi Kyon Hai Jab
Rishta Nibha Hi Nahi Sakte

Jeena Toh Padta, Sabke Liye
Jaldi Toh Mar Bhi Nahi Sakte
Begano Se Tum Lad Sakte Ho
Apno Se Toh Lad Bhi Nahi Sakte

Zindagi Tu Aana Ik Shaam Milenge
Baithenge Teri Shikayat Karenge

Bachpan Bhi Kitna Suhana Tha
Bas Maa Ko Gale Se Lagana Tha
Takleefein Jitni Bhi Ho Chahe
Thoda Rona Tha Aur Bhool Jaana Tha

Raste Wahin Hai Safar Hai Wahi
Kisi Ko Kisi Ki Kadar Hi Nahi
Aaye Hain Shehron Mein Bekaar Hum
Gaon Mein Hi Reh Jaana Tha

Zindagi Tu Aana Ik Shaam Milenge
Baithenge Teri Shikayat Karenge

Banane Wale Tune Kya Kar Diya
Bhai Se Bhai Jhagadta Hai
Har Shaqs Ussi Se Akadta Hai
Zindagi Tera Hai Karz Bada

Ye Karz Chukana Padta Hai
Mili Muft Mein Zindagi Tu Magar
Paisa Kamana Padta Hai

Zindagi Tu Aana Ik Shaam Milenge
Baithenge Teri Shikayat Karenge

“THE END”


(हिंदी में)

ज़िंदगी तू आना इक शाम मिलेंगे
बैठेंगे तेरी शिकायत करेंगे

ये मुझे गिराते हैं क्यों अक्सर
जो खुदको उठा भी नहीं सकता
ये रिश्ता बनाते ही क्यों है जब
रिश्ता निभा ही नहीं सकता

जीना तो पड़ता, सबके लिए
जल्दी तो मर भी नहीं सकता
बेगानो से तुम लड़ सकते हो
अपनो से तो लड़ भी नहीं सकता

ज़िंदगी तू आना इक शाम मिलेंगे
बैठेंगे तेरी शिकायत करेंगे

बचपन भी कितना सुहाना था
बस माँ को गले से लगाना था
तकलीफ़ें जितनी भी हो चाहे
थोड़ा रोना था और भूल जाना था

रास्ते वहीं है सफ़र है वहीं
किसी को किसी की कदर ही नहीं
आए हैं शहरों में बेकार हम
गाँव में ही रह जाना था

ज़िंदगी तू आना इक शाम मिलेंगे
बैठेंगे तेरी शिकायत करेंगे

बनने वाले तूने क्या कर दिया
भाई से भाई झगड़ा है
हर शक्स उसी से आकड़ता है
ज़िंदगी तेरा है कर्ज़ बड़ा

ये कर्ज़ चुकाना पड़ता है
मिली मुफ़्त में ज़िंदगी तू मगर
पैसा कमाना पड़ता है

ज़िंदगी तू आना इक शाम मिलेंगे
बैठेंगे तेरी शिकायत करेंगे

“समाप्त”


Shikayat – Tony Kakkar, Fukra Insaan | Official Video

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

1 × two =